Tragedy King Dilip Kumar की सफलता की कहानी

|

ये भी पढ़े

MS Dhoni का जीवन परिचय {M.S Dhoni Biography}

कौन है Dilip Kumar

Dilip Kumar, फ़िल्मी जगत का एक ऐसा सितारा जिसने 90 के दशक में अनगिनत यादें दी है। Dilip Kumar अपने दौर के सबसे बेहतरीन और उम्दा कलाकारों में गिने जाते है। वहीं आपको बता दें कि, Dilip Kumar को त्रासद भूमिकाओं के लिए मशहूर होने के कारण उन्हे ‘ट्रेजडी किंग’ भी कहा जाता है। Dilip Kumar को भारतीय फ़िल्मों में यादगार अभिनय करने के लिए फ़िल्मों का सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार के अलावा पद्म भूषण, पद्म विभूषण और पाकिस्तान का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘निशान-ए-इम्तियाज़’ से से भी सम्मानित किया जा चुका है। इसके अलावा वर्ष 2000 से वे राज्य सभा के सदस्य है।

वहीं अगर हाल की बात की जाए हमारे “Tragedy King” यानी Dilip Kumar की तबियत ख़राब है। उनके फेफड़ों में पानी भर गया है। जिसके चलते अब पूरा देश उनके लिए प्रार्थना कर रहा है कि वे जल्द से जल्द स्वास्थ्य हो जाए। वहीं आज हम बात करेंगे Dilip Kumar की, उनके करियर की और उनकी निजी जीवन की। साथ ही हम आपको उनके तबियत की पूरी जानकारी भी देंगे। तो चलिए शुरू करते है:

परिचय

Dilip Kumar का जन्म 11 दिसम्बर, 1922 को वर्तमान पाकिस्तान के पेशावर शहर में हुआ था। Dilip Kumar का असली नाम ‘मोहम्मद युसूफ़ ख़ान’ है। उनके पिता का नाम लाला ग़ुलाम सरवर था जो फल बेचकर अपने परिवार का ख़र्च चलाते थे। भारत-पकिस्तान के विभाजन के दौरान उनका परिवार मुंबई आकर बस गया था। हालांकि उनका शुरुआती जीवन तंगहाली में ही गुजरा। जिसके बाद मुंबई में पिता के व्यापार में घाटा होने के कारण वह पुणे की एक कैंटीन में काम करने लगे थे।

Dilip Kumar की किस्मत यहीं से बदलने लगी थी। दरअसल यहीं देविका रानी की पहली नज़र Dilip Kumar पर पड़ी और उन्होंने Dilip Kumar को actor बना दिया। आपको बता दें कि, देविका रानी ने ही ‘युसूफ़ ख़ान’ की जगह उनका नया नाम ‘Dilip Kumar’ रखा था।

फ़िल्मी करियर की शुरुआत

Dilip Kumar ने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत फिल्म ‘ज्वार भाटा’ से की, जो वर्ष 1944 मे आई। हालांकि यह फ़िल्म सफल नहीं रही। जिसके बाद साल 1947 में आई “जुगनू” उनकी पहली हिट फ़िल्म साबित हुई। इस फ़िल्म ने बॉलीवुड में Dilip Kumar को हिट फ़िल्मों के स्टार की श्रेणी में लाकर खड़ा कर दिया। इन चंद फिल्मों के बाद साल 1949 में फ़िल्म “अंदाज़” में Dilip Kumar ने पहली बार Raj Kapoor के साथ काम किया। यह फ़िल्म हिट साबित हुई। जिसके बाद Dilip Kumar ने दीदार (1951) और देवदास (1955) जैसी फ़िल्मों में गंभीर भूमिकाएं निभाई और इन मूवीज के बाद से ही उन्हें ट्रेजडी किंग कहा जाने लगा।

वहीं साल 1960 में आई फिल्म मुग़ले-ए-आज़म में उन्होंने मुग़ल राजकुमार जहाँगीर की भूमिका निभाई थी। इस फिल्म को लोग आज भी बहुत पसंद करते है। इसके बाद “राम और श्याम” में Dilip Kumar द्वारा निभाया गया दोहरी भूमिका यानी डबल रोल आज भी लोगों को गुदगुदाने में सफल साबित होता है। कई फिल्मों में शानदार अभिनय निभाने के बाद साल 1970, 1980 और 1990 के दशक में Dilip Kumar ने कम फ़िल्मों में काम किया।

इस समय की उनकी प्रमुख फ़िल्में थीं: क्रांति (1981), विधाता (1982), दुनिया (1984), कर्मा (1986), इज़्ज़तदार (1990) और सौदागर(1991)। 1998 में बनी फ़िल्म “क़िला” उनकी आखिरी फ़िल्म थी। उन्होने रमेश सिप्पी की फिल्म शक्ति मे अमिताभ बच्चन के साथ काम किया। इस फिल्म के लिए उन्हे फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार भी मिला।

अवार्ड्स

1991 पद्म भूषण
1993 फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड
1994 दादा साहेब फाल्के अवार्ड
1998 सर्वोच्च नागरिक पुरुस्कार निशान ए पाकिस्तान “पकिस्तान सरकार”
Dilip Kumar का नाम सबसे अधिक अवार्ड पाने के लिए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल है।

शादी

Dilip Kumar की शादी साल 1966 में Saira Bano से हुई थी। आपको बता दें कि, Saira Banu फिल्म इंडस्ट्री की बेहद खूबसूरत और मशहूर अदाकारा है। हालांकि इन दोनों के बीच उम्र का काफी अंतर है और यही वजह थी कि उस समय यह सबसे ज्यादा चर्चा का विषय बना। कहां जाता है कि यह कपल बॉलीवुड का हसीन जोड़ा है, जिनके मध्य प्यार की कोई कमी नहीं थी। इतने प्यार के बावजूद भी इंडस्ट्री के इस “ट्रेजेडी किंग” ने बच्चे की चाह में दौबारा निकाह किया था। उनकी यह शादी Aasama Rahman के साथ 1980 में हुई थी, परंतु उनका यह विवाह केवल 2 वर्ष चल पाया और दोनों अलग हो गए।

Dilip-Saira
Dilip-Saira

अफेयर्स

दिलीप-कामिनी

Dilip Kumar सबसे पहले Kamini Koushal के प्यार में पड़े थे। वहीं, Dilip Kumar ने एक बार इस बात पर हामी भी भरी थी कि, वो इस खूबसूरत लड़की के प्रति आकर्षित हुये थे। हालांकि कामिनी ने कभी मीडिया के सामने यह बात स्वीकार नहीं की। लेकिन उनके फिल्म के कुछ साथी यह बताते है कि ये भी दिलीप जी से आकर्षित थी और उनके साथ रहने के लिए कुछ भी कीमत दे सकती थी। परंतु कामिनी ने अपनी स्वर्गवासी बहन से वादा किया था कि वे उनके पति से शादी कर उनके बच्चों का ध्यान रखेंगी और उन्होने ऐसा ही किया और यह संबंध टूट गया।

दिलीप-मधुबाला

बॉलीवुड इंडस्ट्री की सबसे लाजवाब और परवानी जोड़ी Dilip Kumar और Madhubala की मानी जाती है। Dilip Kumar और Madhubala ने वाकई मोहब्बत क्या है वो दुनिया को बताया लेकिन यह जोड़ी भी हमेशा के लिए नहीं जुड़ पाई। दरअसल दोनों के बीच किसी बात से अन-बन शुरू हो गई थी और नाराज मधुबाला ने दिलीप कुमार से रिश्ता तोड़ दिया। जिसके बाद दोनों की राहें जुदा हो गई।

Dilip-Madhubala
Dilip-Madhubala

हेल्थ अपडेट

आज (रविवार) सुबह जब Dilip Kumar को स्वास्थ्य कारणों के चलते मुंबई के हिंदुजा अस्पताल में भर्ती कराया गया था। Saira Banu ने ट्वीट कर लोगों से एक अपील की हैं कि, ‘व्हाट्सएप फॉरवर्ड पर विश्वास न करें. साहब ठीक हैं। आपकी दुआओं के लिए तहे दिल से शुक्रिया. डॉक्टरों के अनुसार, वह 2-3 दिनों में घर आ जाएगा. इंशा अल्लाह।’

दरअसल, सांस लेने में तकलीफ होने की वजह से रविवार को दिलीप कुमार मुंबई के हिंदुजा अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां वह कॉर्डियोलॉजिस्ट डॉ नितिन गोखले और पल्मोनोलॉजिस्ट डॉ जलील पारकर की निगरानी में हैं। ईटाइम्स में प्रकाशित एक खबर के अनुसार डॉक्टर पारकर का कहना है कि दिलीप कुमार को ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया है और उन्हें bilateral pleural effusion (बाइलेटरल प्ल्यूरल इफ्यूजन) की वजह से आईसीयू में ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया है।

विशेष तथ्य

आशा करती हु कि, आप सभी अपने घरों में Safe होंगे और आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई होगी। Dilip Kumar के बारे में तमाम जानकारी आपको मिल गई होगी अगर आप हमसे कुछ भी पूछना चाहते है तो आप Comment के जरिए पूछ सकते है। आपको जल्द ही उसका Reply मिलेगा। ऐसी ही पोस्ट के लिए help2hindi के और पोस्ट पढ़े।

नमस्कार दोस्तों, मैं Akanksha Jain Help2Help की Biography Author हूँ. Education की बात करूँ तो मैं Mass Communication से Graduate हूँ. मुझे Biography पढ़ना और दूसरों को पढ़ाना में बड़ा मज़ा आता है.

1 thought on “Tragedy King Dilip Kumar की सफलता की कहानी”

Leave a Comment

close