Manoj Bajpayee का जमीन से लेकर आसमान तक का सफर

|

ये भी पढ़े

Technical Guruji {Gaurav Choudhary} का जीवन परिचय

कौन है Manoj Bajpayee

Manoj Bajpayee, फ़िल्मी जगत का एक ऐसा नाम जिसे एक समय पर कोई नहीं जानता लेकिन अब पूरा देश उनके अभिनय का दीवाना है। Manoj Bajpayee ने अपनी मेहनत और लगन से सबका दिल जीता है। Manoj एक ऐसे अभिनेता है जो हर एक अभिनय को बखूबी निभाते है। इनकी फैन फॉलोइंग सिर्फ भारत तक ही सिमित नहीं बल्कि कई अन्य देशों में भी इनके फैंस है। वहीं Manoj Bajpayee की हर मूवी तारीफे काबिल होती है। आपको बता दें कि, उन्होंने कड़ी मेहनत और लगन के बाद यह मुकाम हासिल किया है।

Manoj ने अपने जीवनकाल में काफी मुसीबतों का सामना किया है जिसके परिणाम एक सफल अभिनेता के रूप में हुआ है। आपको बता दें कि, Manoj Bajpayee social media पर भी एक्टिव रहते है। असल जिंदगी के साथ-साथ सोशल मीडिया पर भी उनके लाखों फॉलोवर्स है। उन्होंने अभी तक कई बेहतरीन मूवीज दी है जिनमें उनका अभिनय तारीफें काबिल है।

परिचय और पढाई

Manoj Bajpayee का जन्म बिहार के पश्चिमी चंपारण के एक छोटे से गाँव बेलवा में 23 अप्रैल 1969 को हुआ था। Manoj Bajpayee के 6 भाई-बहन है जिनमें से वे दुसरे नंबर पर आते है। इनके पिता एक किसान थे जबकि माँ घर की देखभाल करती थी। Manoj Bajpayee का बचपन से ही actor बनने का सपना था लेकिन इनके परिवार की स्थिति ऐसी थी की बहुत मुश्किल से ही इनकी पढाई लिखाई पूरी हो पाई।

आपको बता दें कि, Manoj Bajpayee ने स्कूली पढाई बेतिया जिले के राजा हाई स्कूल से की है। इन्होने अपनी 12th क्लास की पढ़ाई महारानी जानकी कॉलेज, बेतिया से पूरा किया। इसके बाद ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए वे दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय के रामजस कॉलेज आ गए। इसके बाद उन्होंने नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा से चार बार ट्राई किया लेकिन उनका एप्लीकेशन खारिज कर दिए गया। जिसके बाद उन्होंने बैरी डरामा स्कूल से बैरी जॉन के साथ थीयेटर किया।

संघर्ष की कहानी

Manoj Bajpayee चंपारण की गलियों से निकल तो गए थे लेकिन अब चुनौती यह थी कि, bollywood में कदम कैसे रखा जाए। चंपारण से मुंबई तक का सफर Manoj के लिए काफी मुश्किल भरा रहा। वहीं Manoj Bajpayee की बहन पूनम दुबे ने बताया था कि, “मनोज भाई एनएसडी के बाद दिल्ली में काम के लिए लगातार स्ट्रगल कर रहे थे और जब हम दोनों सुबह घर से निकलते, तो वो मुझे हाथ में दो रुपए का सिक्का देकर बस में बिठा देते थे और खुद पैदल चलकर अपने थिएटर ग्रुप तक जाते थे।

Mannoj Bajpayee
Mannoj Bajpayee

उन्होंने एनएसडी की पढाई के दौरान एक रुपया भी घर से नहीं लिया। मै हमेशा अपने भाई के लिए दुआ करती रहती थी की उन्हें अपनी मंजिल जल्द से जल्द मिले। उस समय बिहार के चंपारण जिले के बहार किसी लड़की ने पढने क लिए कदम नहीं रखा था, लेकिन मेरे भाई के कारण ही मै फैशन डिजाइनिंग करने वाली पहली लड़की बन पाई।”

करियर

Manoj Bajpayee के करियर की शुरुआत दूरदर्शन के धारावाहिक स्वाभिमान के साथ की थी। आपको बता दें कि, इसी धारावाहिक से Manoj Bajpayee के अलावा Ashutosh Rana और Rohit Roy को भी पहचान मिली। जिसके बाद Manoj Bajpayee की पहली डेब्यू फिल्म साल 1994 की ‘द्रोहकाल’ रही। जिसमे उन्होंने सिर्फ एक मिनट के लिए रोल किया था। इस मूवी के बाद उन्होंने ‘बैंडिट क्वीन’ (1994) में डाकू मान सिंह की एक छोटी सी भूमिका अदा की। जिसमे इनको काफी प्रशंसा मिली।

अब उन्होंने बॉलीवुड में कदम रख लिया था और उन्हें काम भी मिलने लगा था। जिसके चलते Manoj Bajpayee ने कुछ छोटे छोटे रोल किया लेकिन उन्हें अभी भी संतुष्टि नहीं मिली थी। उन्हें उनके मन का काम नहीं मिला जिसके बाद उन्होंने मुम्बई छोड़ने का मन बना लिया। लेकिन उनकी किस्मत उनको इस इंडस्ट्री से दूर नहीं करना चाह रही थी।

जिसके बाद उन्होंने साल 1998 मे राम गोपाल वर्मा की फिल्म “सत्या” में कम करने का मौका मिला। सत्या के बाद उन्होंने सिर्फ बॉलीवुड में आगे बढ़ने का रास्ता देखा कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। इस फिल्म मे उनके द्वारा निभाये गये भीखू म्हात्रे के किरदार के लिये उन्हे कई पुरस्कार मिले जिसमे सर्वश्रेष्ठ सह-अभिनेता का राष्ट्रीय पुरस्कार और फिल्मफेयर का सर्वोत्तम अभिनेता पुरस्कार (समीक्षक) मुख्य हैं।

इन मूवीज के बाद साल 1999 में फिल्म “शूल” में Manoj Bajpayee ने अभिनय किया। उन्होंने इस मूवी में समर प्रताप सिंह के लिये उन्हे फिल्मफेयर का सर्वोत्तम अभिनेता पुरस्कार से भी नवाजा गया था। अमृता प्रीतम के मशहूर उपन्यास ‘पिंजर’ पर आधारित फ़िल्म पिंजर के लिये उन्हे एक बार फिर राष्ट्रीय पुरस्कार मिला। इस समय पर हर जगह Manoj Bajpayee की एक्टिंग की चर्चाएं शुरू हो गई थी।

शादी

Manoj Bajpayee जब अपनी पहचान पाने के लिए सीढ़ियां चढ़ रहे थे उस दौरान उन्होंने अपने निजी जीवन का एक महत्वपूर्ण कदम उठा लिया था। दरअसल उन्होंने दिल्ली में एक लड़की से शादी की थी लेकिन इन्होने अपने स्ट्रगल पीरियड में तलाक ले लिया। जिसके बाद Manoj Bajpayee का अफेयर्स फिल्म अभिनेत्री नेहा (शबाना राजा) से चला। इस प्यार को उन्होंने मुकाम तक पहुंचाया और 2006 में पवित्र बंधन में बांध लिया। मनोज-नेहा की लव स्टोरी 1998 में शुरु हुई।

Mannoj Bajpayee family
Mannoj Bajpayee family

सोशल मीडिया

Manoj Bajpayee सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते है। उनके सोशल मीडिया पर लाखों फॉलोवर्स है। वे अक्सर पोस्ट, स्टोरीज के जरिए अपने फैन्स के साथ छोटी-मोटी चीजें शेयर करते रहते है। इसके अलावा वे उनकी जिंदगी में क्या चल रहा है इस बात की भी अपने फॉलोवर्स को जानकारी देते है। वहीं अगर बात की जाए फॉलोवर्स की तो इंस्टाग्राम में Manoj Bajpayee के 2.6 मिलियन फॉलोवर्स है और ट्विटर पर Manoj Bajpayee के 1.5 मिलियन फॉलोवर्स है।

विशेष तथ्य

आशा करती हु कि, आप सभी अपने घरों में Safe होंगे और आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई होगी। Manoj Bajpayee के बारे में तमाम जानकारी आपको मिल गई होगी अगर आप हमसे कुछ भी पूछना चाहते है तो आप Comment के जरिए पूछ सकते है। आपको जल्द ही उसका Reply मिलेगा। ऐसी ही पोस्ट के लिए help2hindi के और पोस्ट पढ़े।

 

नमस्कार दोस्तों, मैं Akanksha Jain Help2Help की Biography Author हूँ. Education की बात करूँ तो मैं Mass Communication से Graduate हूँ. मुझे Biography पढ़ना और दूसरों को पढ़ाना में बड़ा मज़ा आता है.

2 thoughts on “Manoj Bajpayee का जमीन से लेकर आसमान तक का सफर”

Leave a Comment