TV Anchor Rohit Sardana का जीवन परिचय

|

कौन है Rohit Sardana

Rohit Sardana वो नाम है जो आज हर एक इंसान की जुबान पर चढ़ा है। ये वो है जिन्होंने बहुत ही कम समय में पत्रकारिता की दुनिया में अपना नाम कमाया है। जी हां, रोहित सरदाना एक प्रसिद्ध भारतीय पत्रकार, एंकर, स्तंभकार, संपादक हैं। जिनका आज निधन हो गया है, गुरुवार (कल) ही वैश्विक महामारी कोरोना से संक्रमित पाए गए थे जिसके बाद आज वे अस्पताल में भर्ती हुए और फिर उन्हें हार्ट अटैक आया जिससे उनकी मौत हो गई। आज हम बात करते Rohit Sardana के करियर की उनके परिवार की और उनकी निजी जिंदगी की। तो आइये शुरू करते है:

Rohit Sardana

परिचय और परिवार

हरियाणा के कुरुक्षेत्र में जन्मे रोहित जा जन्म 22 सितम्बर 1979 को हुआ था। वहीं बात करें रोहित के परिवार की तो अभी तक उनके माता-पिता के नाम की कोई जानकारी नहीं मिल पाई है। उनकी पत्नी का नाम प्रमिला दीक्षित है और इनकी 2 बेटियां है: मिट्ठू और काशी है। वे अक्सर अपनी बेटियों के साथ बिताए कुछ अनोखे पलो को INSTAGRAM ACCOUNT पर शेयर करते रहते थे। जो आज बहुत Viral हो रही है। ROHIT का एक भाई है जो कंप्यूटर साइंस इंजीनियर है।

rohit sardana family

पढाई

रोहित ने कुरुक्षेत्र से ही अपनी स्कूल की पढ़ाई पूरी की थी। जिसके बाद आगे की पढ़ाई के लिए वह हिसार चले गए और उन्होंने गुरु जम्बेश्वर विश्वविद्यालय विज्ञान और प्रौद्योगिकी में ADMISSION लिया। यहां से ROHIT ने मनोविज्ञान में स्नातक (BA) की डिग्री हासिल की है, और उसी यूनिवर्सिटी से मास कम्युनिकेशन में मास्टर्स (MA) की डिग्री हासिल की।

वहीं एक इंटरव्यू के दौरान रोहित सरदाना ने बताया था कि वह हमेशा से अभिनेता बनना चाहते थे और इसके लिए उन्होंने NATIONAL SCHOOL OF DRAMA में भी दाखिला लिया था। लेकिन दुर्भाग्य से, उन्हें एनएसडी से बाहर होना पड़ा क्योंकि वहां पर कुछ हासिल नही हो पा रहा था। यही समय था जब उन्होंने पत्रकार बनने का फैसला किया और उन्होंने समाज के बीच अविश्वास और मुद्दों को दूर करने के लिए कई बहस की मेजबानी की।

TV पर आने का सपना हुआ पूरा

आपको बता दें कि, रोहित का बचपन से ही टीवी पर आने का सपना था, इसीलिए उन्होंने पत्रकारिता की राह पकड़ी। वे शुरुआत में कुछ अखबारों के लिए भी लिखते थे। जिसके बाद उन्होंने कुछ इंटरव्यू दिए और उनकी RADIO STATION में नौकरी लग गई। रोहित पढाई के साथ ही नौकरी भी करने लगे। RADIO में JOB के बाद उन्होंने सिटी केबल JOIN किया और सिटी केबल ने भी एक शो रोहित को दे दिया।

कुछ डेढ़ साल ROHIT ने इसी तरह काम किया और फिर जब रोहित को लगा इतने से काम नहीं चलेगा तब रोहित दिल्ली आ गये। राजधानी दिल्ली में उन्होंने इ-टीवी नेटवर्क के साथ इंटर्न के रूप में काम करने का मौका मिला। फिर E-TV ने ही उन्हें जॉब ऑफर की। कुछ समय बाद रोहित का ट्रान्सफर हेदराबाद हो गया। वहां रोहित ने महीने टीवी-एंकर का ऑडिशन दिया पर कुछ सफल नही हो पाए।

टीवी-एंकर का सफ़र

रोहित ने कभी हार मानना नहीं सीखा था वे कोशिश करते रहे और फिर उन्होंने 5 महीने VT एडिटर की ट्रेनिंग की। जिसके बाद रोहित ने सबको अपने काम में चौका दिया था दरअसल, उस वक्त गुजरात में चुनाव चल रहे थे और यही वक्त का जब उन्होंने अपने हुनर को दिखाया। फिर उन्हें टीवी पर एंकरिंग करने का मौका मिला, और वहीँ से शुरू हुआ Anchor Rohit Sardana का सफर।

वहीं 2004 में उन्होंने सहारा में Assistant producer के रूप में काम किया। सरदाना ने ज़ी न्यूज़ में executive editor के रूप में शामिल होने से पहले उन्होंने सहारा में दो साल तक काम किया। उनकी यह मेहनत रंग लाई और उन्होंने ज़ी न्यूज़ में एक डिबेट शो “ताल-ठोक” के किया, जिसमे वे समकालीन और सामाजिक मुद्दों पर चर्चा करते थे। इस शौ से उन्होंने काफी नाम कमाया। जिसके बाद 2017 में, उन्होंने ज़ी न्यूज़ को छोड़ कर आजतक ज्वाइन किया।

अवार्ड

एंकर रोहित सरदाना को कई AWARDS से नवाजा गया है जिनमे से कुछ चुनिंदा अवार्ड्स कुछ इस प्रकार है:

संसुई बेस्ट न्यूज़ प्रोग्राम अवार्ड.
माधव ज्योति सम्मान.
सर्वश्रेष्ठ समाचार एंकर अवार्ड.

Social Media के जरिए कर रहे थे मदद

आज का सोशल मीडिया एक बहुत बड़ा प्लेटफार्म बन चुका है। जिसके जरिए इस महामारी के दौर में कई लोग मसीहा बन कर सामने आये है इन्ही में से एक थे रोहित। आपको बता दें कि, वे जब खुद हॉस्पिटल में एडमिट थे तब तक वे Twitter के जरिए लोगों की मदद कर रहे थे और उन्हें इस मुसीबत से बचा रहे थे। कोरोना महामारी के इस मुसीबत के दौर में रोहित एक मसीहा का काम कर रहे थे। वे खुद भी मुसीबतों से जूझ रहे थे लेकिन इस कंडीशन में भी उन्होंने सबकी मदद ही की है।

मृत्यु

मशहूर एंकर रोहित सरदाना “आज तक” के साथ काम कर रहे थे। जिसके चलते उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई और वे अस्पताल में भर्ती हो गए। वे धीरे-धीरे ठीक होने लगे थे लेकिन फिर अचानक उन्हें हार्ट अटैक आया और हृदयगति रुकने के कारण उनकी मृत्यु हो गयी। 30 अप्रेल 2021 को सुबह जब उन्हें अटैक आया उसके बाद डॉक्टर उन्हें वेंटीलेटर पर भी ले गए, लेकिन डॉक्टर उन्हें नहीं बचा सके।

छाई दुःख की लहर

उनकी मृत्यु के बाद मानो एक दुःख का साया सबके ऊपर आ गया। कई लोगों को तो विश्वास भी नहीं हो रहा था कि अब हमारे बीच “दंगल” के सरताज रोहित सरदाना नहीं रहे। वो जिंदगी की इस कड़ी परिस्थितियों में यह जंग हार गए। सोशल मीडिया पर भी यह खबर तेजी से फैल गई और सबके चेहरे उदास हो गए।

उनके जाने का दुःख प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित कई अन्य बड़े नेताओं ने भी उनके जाने का शोक जताया। वहीं आज तक के उनके साथी भी इस खबर से इतने टूट गए थे कि वो अपने आंसू नहीं रोक पाए और वे ऑन स्क्रीन ही रो पड़े। उनके जाने का दुःख हम सबको है वे हमेशा हमारे दिलों में जिन्दा रहेंगे।

विशेष तथ्य

मैं आशा करती हु कि आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी होगी। अगर आपको इस पोस्ट के बारे में कुछ भी पूछना हो तो आप कमेंट कर हमे बता सकते है आपको जल्द ही उनका रिप्लाई मिलेगा।

नमस्कार दोस्तों, मैं Akanksha Jain Help2Help की Biography Author हूँ. Education की बात करूँ तो मैं Mass Communication से Graduate हूँ. मुझे Biography पढ़ना और दूसरों को पढ़ाना में बड़ा मज़ा आता है.

Leave a Comment